सोचिये-विचारिये

Just another weblog

72 Posts

71 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 3583 postid : 774492

जजों का कोलेजियम ख़त्म- सांसदों का कब???????????

  • SocialTwist Tell-a-Friend

संसद ने जज नियुक्ति बिल को पास कर दिया. अब जजों की नियुक्ति खुद जजों का पैनल नहीं कर सकेगा. बल्कि इसमें सरकार का भी दखल रहेगा. इस बिल के पास होने से जजों की नियुक्ति में स्वयं उन्ही का एकाधिकार नहीं रह जायेगा. न्यायपालिका जैसी महत्वपूर्ण संस्था के लिए यह आवश्यक भी है की उच्च पदों पर जजों की नियुक्ति में पूर्ण पारदर्शिता बरती जाये.

किन्तु जिस संसद ने एकमत से इस जज नियुक्ति बिल को पास किया है क्या वह अपने लिए भी इस प्रकार का कोई बिल लाने का साहस दिखा पायेगी ? क्या सांसदों का कोलेजियम भी ख़तम हो पायेगा? मेरा अभिप्राय सांसदों के वेतन और भत्ते बढ़ने को लेकर संसद द्वारा पास किये जाने वाले बिलों से है. जो हमेशा ही ध्वनी मत से पारित कर दिए जाते है. सांसद खुद ही अपने लिए मिलने वाली सुविधाओं और वेतन भत्तों में बढ़ोतरी कर लिया करते है. यदि जजों द्वारा खुद जजों की पदोन्नति के निर्णय को संसद और सांसद उचित नहीं समझते है तो फिर सांसदों को कितना वेतन और अन्य सुविधाएँ मिले, इसे सांसद खुद तय कर ले इसे कैसे उचित माना जा सकता है. इसके लिए भी लोकसभा अध्यक्ष के नेतृत्व में सांसदों और अन्य व्यक्तियों की एक समिति बनायी जानी चाहिए जो इनके वेतन इत्यादि के बारे में निर्णय करे. यह समिति यह भी निर्णय करे की संसद की कैंटीन में मोटा वेतन और अनेकों प्रकार के भत्ते पाने वाले सांसदों को कितने रूपए में चाय की प्याली मिले और कितने रूपए में भोजन की थाली. यह समिति यह भी करे की सांसदों को कितनी सांसद निधि विकास कार्यों के लिए मिले. जिन सांसदों द्वारा अपनी विकास निधि खर्च नहीं की जा रही हो उनकी आगामी वर्षों में निधि पर रोक लगाने का काम भी यह समिति करे. सांसदों की विकास निधि का ऑडिट करने का काम भी यही समिति करे.

क्या हमारे सांसद और सरकार इस प्रकार की कोई समिति गठित करने का साहस दिखा पाएंगे?
माननीय सांसदों “जरा सोचिये”!!!!!!

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

3 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Shobha के द्वारा
May 9, 2016

राजिव जी उत्तम प्रश्न एक बात और जोड़ दें सांसदों पर नकेल कब तक

jlsingh के द्वारा
August 18, 2014

अंधेर नगरी है …इसे ही लोकतंत्र कहते हुए हम थकते नहीं हैं…ये चाहे जो कर केन माइक उखाड़ कर फेंकें, अध्यक्ष के पास जाकर हंगामा खड़ा करे आपस में हाथपाई करे सब माफ़ है और इन्ही के बनाये कानून से देश चले…

    Rajeev Varshney के द्वारा
    August 25, 2014

    मेरा आलेख पढ़ टिप्पणी करने के लिए सादर धन्यवाद.


topic of the week



latest from jagran