सोचिये-विचारिये

Just another weblog

72 Posts

71 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 3583 postid : 1170811

तीसरा विश्व युद्ध पानी के लिए होगा

  • SocialTwist Tell-a-Friend

देश के बड़े हिस्से में इस समय सूखे का कहर है. खेती की बात छोड़िये पीने के पानी की भी भारी किल्लत देश के कई हिस्सों में इस समय बनी हुई है. आज़ादी मिले 70 वर्ष होने के बाद भी हम सूखे और बाड़ जैसी समस्याओं से स्थायी निजात नहीं पा सके है. इसके पीछे बड़ा कारण हमारे राजनेताओं की संकुचित सोच और अक्षमता तथा नौकरशाही में व्याप्त भ्रष्टाचार है. राजनेताओं की संकुचित सोच वर्तमान केन्द्रीय जलसंसाधन मंत्री उमा भारती के बयान से प्रकट होती है की सूखे से निपटने की योजना नहीं बनाई जा सकती. और नौकरशाही को सूखे से निपटने में कोई रूचि नहीं होती. उनकी दूर द्रष्टि तो बस सूखा पढने के बाद बटने वाली राहत राशि पर होती है.
भारत भर में वर्षा का अमूल्य जल बह कर नदियों के रास्ते समुंद्र में जा कर इस्तेमाल के योग्य नहीं रह जाता. इस अमूल्य वर्षा जल के संरक्षण के पर्याप्त उपाय करने में किसी राजनेता अथवा नौकरशाही की कोई रूचि नहीं है. राजनेता इतने अधिक पढ़े लिखे अथवा दूरगामी सोच के नहीं हैं और नौकरशाही अपने निजी स्वार्थ में जल संरक्षण के उपाय नहीं करना चाहते. देश में एकाध स्थान पर लोगों ने सूखे और पानी की कमी से निजात पायी है तो वो व्यक्ति विशेष के प्रयसों से ना की किसी नेता अथवा अधिकारी के प्रयासों से. बल्कि नेताओं और अधिकारीयों ने उनके प्रयासों में अड़ंगे ही लगाये हैं. इस अति गंभीर मुद्दे पर नेताओं और अधिकारीयों से कोई आशा करना व्यर्थ प्रतीत होता है. जन साधारण को स्वयं ही पानी का अपव्यय रोकना होगा और वर्षा जल संरक्षण के उपाय करने होंगे. अन्यथा कही गयी बात सही भी हो सकती है की तीसरा विश्व युद्ध पानी के लिए होगा.

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

3 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Jessie के द्वारा
October 17, 2016

Hey! Would you mind if I share your blog with my twitter group? Th#;2&e8e17rs a lot of folks that I think would really appreciate your content. Please let me know. Thank you

Shobha के द्वारा
May 9, 2016

श्री राजिव जी मैने कोशश कर आपका लेख ढूंड लिया आपने बिलकुल सही लिखा है यदि पानी की कमी बढती रही पानी पर लड़ाई होना स्वभाविक है |

    Rajeev Varshney के द्वारा
    May 9, 2016

    सादर धन्यवाद


topic of the week



latest from jagran